Religion National Oct/10/2018 (38) (3483)

जानिये, नवरात्र के उपवास में क्या खाएं क्या न खाएं ?

भारत के सभी राज्यो में अपनी-अपनी परंपराओं के अनुसार उपवास किया जाता है। जो आपकी परंपरा है और जिन नियमो का आपके परिवार में पालन किया जाता है उन्ही के अनुसार अपना व्रत करें और माँ भगवती का आशीष प्राप्त करें।

post

डीआईवा||नई दिल्ली अमूमन लोग नवरात्रि के व्रत रखते हैं, लेकिन खाने पीने के शौकीन लोगों के लिए व्रत रखने में थोड़ी परेशानी रहती है। वहीं कुछ लोग ये निर्णय नहीं कर पाते कि आखिर व्रत में क्या चीजें खाई जा सकती हैं, या फिर क्या-क्या नहीं खाना चाहिए। जहाँ एक ओर दिल्ली निवासी सिंघाड़े के आटे की पूड़ी से अपना व्रत सम्पूर्ण करते है वही दूसरी ओर बिहार के लोग फलहार पर उपवास रखते है। पंडित हरि प्रसाद शास्त्री जी के मुताबिक जानते हैं कि नवरात्र में क्या - क्या खाएं क्या न खाएं ? नवरात्रि के सामान्य दिनों में आप किसी भी प्रकार के भोजन का सेवन कर सकते है। लेकिन उपवास के दौरान कुछ विशेष खाद्य पदार्थो का सेवन उचित होता है। पुराणों के अनुसार उपवास के दिन व्यक्ति को फलाहार करना चाहिए अर्थात आप फलो का सेवन कर सकते है। लेकिन इसका मतलब ये नहीं है की आप हर दूसरे मिनट कुछ खा रहे है। उपवास के वाले दिन भूख रहना भी किसी पुराण में नहीं लिखा है। खाये लेकिन केवल 1 से 2 बार। आप दूध, दही आदि का भी सेवन कर सकते है। फलो के जूस का सेवन भी किया जा सकता है। सूखे मेवे भी खा सकते है। दिन में एक से दो बार चाय का सेवन कर सकते है। रात्रि को पूजा आदि के पश्चात् भोजन किया जाता है। बहुत से लोग कुटु या सिंघाड़े के आटे की पकोड़ियों के साथ सब्जी आदि से पाना उपवास खोलते है। नवरात्रि के दौरान यहाँ भोजन में साधारण नमक के स्थान पर सेंधा नमक का प्रयोग किया जाता है। सेंधा नमक को व्रत के नमक के नाम से जाना जाता है। आप चाहे तो दही, साबुत दाने की खीर, और सामक के चावल का भी सेवन कर सकते है। लेकिन इस तरह के भोजन का सेवन केवल एक बार अर्थात रात्रि को ही किया जाता है। कुछ लोग उपवास में नमक से परहेज करते है इसलिए वे नवरात्रि व्रत में भी नमक का सेवन नहीं करते। यहाँ के लोग फल, दूध, दही और पनीर आदि के सेवन से अपने व्रत को सम्पूर्ण करते है। नवरात्रि के दौरान बहुत से लोग कुटु के आटे आदि की पूरी का सेवन भी नहीं करते। वे पूरे नौ दिन फलहार पर रहते है और केवल फलो का ही सेवन करते है। इस दौरान वे अन्न के सेवन से परहेज करते है। कुछ लोग नवरात्रि के दौरान दिन में आलू से बानी पकौडी और चीले भी खाते है। जबकि कुछ लोग पुरे दिन में केवल एक बार भोजन ग्रहण करते है। हर परिवार अपनी-अपनी परंपरा अनुसार व्रत रखते है और उसे सम्पूर्ण करते है। इसके अलावा कुछ लोग मीठे पकवान जैसे घीये और मूंगफली की बर्फी का भी सेवन करते है। नवरात्रि में क्या न खाएं ? नवरात्र माँ दुर्गा का त्यौहार है और भगवन से जुड़े किसी भी कार्य में शुद्धता का विशेष ध्यान रखा जाता है इसीलिए नवरात्रि के दौरान कुछ खाद्य पदार्थो से परहेज करना चाहिए। इन खाद्य पदार्थो की सूचि नीचे दी गयी है। हिन्दू धर्म के अधिकतर लोग नवरात्रि के दौरान लहसुन का सेवन नहीं करते। इस दौरान अपने खाने में प्याज को भी सम्मिलित नहीं किया जाता। कई लोग इस दौरान मांसाहारी भोजन से परहेज करते है। ऐसे भी कई लोग है जो नवरात्रि के दौरान शराब आदि का सेवन भी नहीं करते। इसके अलावा कुछ लोग व्रत के दौरान नमक का सेवन भी नहीं करते। जबकि कुछ लोग एक बार सेंधा नमक से निर्मित भोजन का सेवन करते है । नवरात्रि के दौरान ध्यान रखने योग्य बातें :- कुछ लोगो की मान्यता है की इस दौरान shave और बाल नहीं कटवाने चाहिए। लेकिन नवरात्रि में बच्चो का मुंडन करवाना शुभ माना जाता है। कई लोग पुरे नौ दिन नाख़ून भी नहीं काटते। कहा जाता है की यदि आप नवरात्रि में कलश स्थापना, माता की चौकी का आयोजन कर रहे हैं या अखंड ज्योति‍ जला रहे हैं तो इस दौरान घर को खाली छोड़कर कही नहीं जाना चाहिए। मान्यता है की नौ दिनों का व्रत करने वाले श्रद्धालु को काले रंग के कपडे नहीं पहनने चाहिए। विष्णु पुराण के अनुसार, नवरात्रि व्रत के दौरान दिन में सोने, तम्बाकू चबाने और शारीरिक संबंध बनाने से भी व्रत का फल नहीं मिलता है। ऊपर बताई गयी सभी बाते लोगो की मान्यताओ पर आधारित है। हम ये नहीं कह रहे की आप इन्ही नियमो का पालन करें। जो आपकी परंपरा है और जिन नियमो का आपके परिवार में पालन किया जाता है उन्ही के अनुसार अपना व्रत करें और माँ भगवती का आशीष प्राप्त करें।

post
post
post
post
post
post
post
post
post
post
post
post
post
post
post
post